Covid-19 cases in UP: UP News: उत्तर प्रदेश में कोरोना केस 68% तक घटे, 22% से घटकर 2.67 हुई कोविड संक्रमण दर, रिकवरी रेट 92.5%, – uttar pradesh brought down covid positivity rate while recovery rate is good


लखनऊ
उत्तर प्रदेश में कोविड पॉजिटिविटी की दर अप्रैल के 22 प्रतिशत से घटकर 2.67 रह गई है। करीब 23 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में कोरोना केस में 68 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। 23 अप्रैल को 2 लाख 10 हजार केस के साथ कोविड अपने पीक पर था। वहीं कल प्रदेश में 7336 नए केस दर्ज किए गए, जो कि 30 अप्रैल के बाद से अभी तक एक दिन में सबसे कम आंकड़ा है। ऐक्टिव केस की संख्या 20 दिनों में ही घटकर 1 लाख 87 हजार रह गई है। वहीं रिकवरी रेट 92.5 प्रतिशत है।

युवाओं को वैक्सीन लगाने में यूपी सबसे आगे
उत्तर प्रदेश सबसे ज्यादा आबादी वाला राज्य होने के बावजूद भी सबसे ज्यादा युवाओं को टीका लगाने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। 1 मई से जब 18-44 की श्रेणी के लिए पंजीकरण शुरू हुआ, तब से राज्य में लगभग दस लाख युवा टीका ले चुके हैं। वर्तमान में यह अभियान राज्य के 23 जिलों में चल रहा है।

सरकार के प्रवक्ता के अनुसार, ’18 प्लस के लिए टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद से इस श्रेणी में टीकाकरण की यह सबसे ज्यादा संख्या है।’ नए कोविड वेरिएंट द्वारा संचालित घातक वायरस युवा आबादी को ज्यादा प्रभावित कर रहा है। तीसरी लहर की आशंका के साथ, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी अभियान का विस्तार करने और 10 साल से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता को जल्द से जल्द टीकाकरण करने की योजना बना रहे हैं। प्रवक्ता ने कहा,‘कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले हम 10 साल से कम उम्र के सभी बच्चों के माता-पिता को वैक्सीन की खुराक देकर सुरक्षा मुहैया कराने की व्यवस्था कर रहे हैं।’

कोविड टीकाकरण में आगे की भूमिका निभाते हुए, राज्य ने अब तक टीके की 1,62,16,379 खुराकें दी हैं। इनमें से 1,28,74,451 ने अपनी पहली खुराक प्राप्त कर ली है और लगभग 33,41,928 को वैक्सीन की दूसरी खुराक मिल गई है। मुख्यमंत्री लगातार राज्य में टीकाकरण अभियान को गति देने के लिए काम कर रहे हैं।

इस बीच शनिवार को कानपुर में मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने सभी अधिकारियों को पुनर्निर्माण, जीर्णोद्धार, सभी आधुनिक प्रकार के उपकरण उपलब्ध कराने और बच्चों के लिए एक नगर निगम अस्पताल को फिर से शुरू करने का निर्देश दिया था, जो पिछले वर्षों से बंद है। उन्होंने आगे कहा कि हर मेडिकल कॉलेज को 100-आईसीयू बाल चिकित्सा बेड, 100 बेड (नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट) एनआईसीयू के साथ ऑक्सीजन, 20-25 एनआईसीयू बेड जिला अस्पतालों में और कुछ सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) ग्रामीण क्षेत्रों में भी तैयार करना चाहिए। तीसरे चरण की तैयारी शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का लक्ष्य दूसरी लहर से जूझते हुए तीसरी लहर की तैयारी करना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार का लक्ष्य 30 मई के तक महामारी की दूसरी लहर को नियंत्रित करना है और नागरिकों से उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन करने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री पहले ही कोरोना कर्फ्यू को 30 मई तक बढ़ा चुके हैं।

(आईएएनएस की इनपुट के साथ)

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!