हाथरस DM ने पीड़ित परिवार मे ताऊ को छाती पर लात मारी -पीड़ित परिवार

हाथरस DM ने पीड़ित परिवार मे ताऊ को छाती पर लात मारी -पीड़ित परिवार

Hathras Case -हथारस को पूरे छावनी के रूप मे तब्दील कर दिया गया है । यूपी पुलिस ने गाव को चरो तरफ से घेरा बंदी कर दी न किसी को आने या जाने की अनुमति है । पीड़ित परिवार से मोबाइल ले लिया गया है । जिससे पीड़ित अपनी पीड़ा किसी से न बता सके ।

पीड़ित परिवार के एक सदस्य ने खेत के रास्ते बहाना बना कर मीडिया से मिल कर अपनी बात कही । मीडिया रिपोर्ट मे पीड़ित परिवार ने कहा पुलिस आने जाने नही दे रहे है ।

न्यूज़ 24 से बात करते हुये पीड़िता ने कही माँ , भाभी ,ताऊ मीडिया से बात करना चाहते है इस लिए मैंने छुप कर यहा तक आया हु । आगे कहा हथारस  के डीएम ने इनके ताऊ को छाती पर लात मारी जिससे ताऊ बेहोस हो गए और उनका तबीयत खराब हो गया ।

पुलिस ने पूरी तरह से घेरा बंदी कर दी है । पीड़ित परिवार ने छुप छुप कर मीडिया से मिल कर ये सभी बाते बताई । डीएम के द्वरा धमकाया जा रहा  है । ये बात मीडिया से निकाल कर आ रही है ।

Hatharas Rape Case ReportHatharas Rape Case Report
पीड़ित परिवार मीडिया से बात करते हुये

जब मीडिया के लोग पीड़ित परिवार से मिलना चाह रहे है उनसे उनकी पीड़ा क्या है क्या हो रहा ही विस्तार से मीडिया के लोग बात करना चाह रहे है लेकिन पुलिस फिरे हाथरस एरिया को घेर कर रखा है । जहा से किसी के आने या जाने का कोई रास्ता नही है ।

इंडिया टीवी के रिपोर्टर ने भी जाने की पूरी कोशिस की लेकिन पुलिस वालो ने ह्यूमन चैन बना कर रोक दिया यहा तक की किसी पुलिस वालों ने कोई जबाब नही दे रहे है आखिर वो पीड़ित परिवार से क्यो नही मिलने दे रहे है ।

यहा तक की सभी पुलिसकर्मी अपनी मुह बंद कर रखखी है । मीडिया के द्वारा दबाव बनाने पर एक ही आवाज आ रही है उपर से ऑर्डर है लेकिन लिखित मे कोई नही दिखा रहा ।

इतना ही नही जब भारत समाचार मीडिया प्रज्ञा मिश्रा ने पीड़ित परिवार से मिलने की कोशिस की तो पुलिस वालों ने बातमीजी के साथ व्यवहार किया ।

Hatharas Rape Case Report 2
भारत समाचार प्रज्ञा से अभद्रता की तस्वीर

भारत समाचार प्रज्ञा ने दौड़ दौर भाग कर भी जाने की कोशिश की लेकिन नही जाने दिया गया इतना ही नही उनके साथ अभद्रता भी की गयी । एबीपी मीडिया की बात करे तो इन महिला ने जाने की पूरी कोशिश की लेकिन इनके साथ भी अभद्रता पुलिस के द्वारा किया गया ।

यहा तक की उनके केमरा और Mice के कनैक्शन को काटने की कोशिश की गयी । पुलिस वालों ने इनको बिना किसी महिला पुलिस के पुलिस अपने गाड़ी मे बैठा देती है । उसके बाद महिला पुलिस आती है ।

इसे भी पढे 

निर्भया हाथरस जैस घटना कब तक सरकार जाबाब दो ,आखिर क्यो बेटियाँ सुरक्षित नही है 

हाथरस को पूरे छवानी के रूप मे तब्दील कर दिया गया है । पीड़ित परिवार के घर पर 200 से 250 पुलिसकर्मी है । आखिर ऐसा क्या हो गया है जिससे पुलिस प्रशासन इतना कडा रुख अपना रही है ।

यहा तक की पीड़िता के परिवार के बिना पुछे पीड़िता को जला दिया जाता है । और अभी तक पीड़िता की स्थीया वही है । आखिर क्यो ऐसा किया गया । क्या इसे अंतिम संस्कार कहा जाएगा ।

यह तो जला कर सबूत मिटा रहे है । आखिर तुम जैसे कमीना पुलिस वालों तूमे शर्म नही आती ऐसा घृत काम करने मे तुम लोगो को अपराधियो को सजा दिलवाना चाहिए और तुम लोग पीड़ता के परिवार को धमका रहे हो ।

क्या है है यूपी की पुलिस का असली चेहरा । योगी जी आप तो अपराधियो को शहर या तो प्रदेश छोड़ दो वरना अंजाम बुरा होगा । लेकिन ये क्या हो रहा जहा पीड़िता को इंसाफ मिलना चाहिए वाहा धमकाया जा रहा हाथरस के DM के द्वरा क्या यही राम राज्य है ।

ऐसे डीएम है जो ऐसी बात करता है पीड़िता के परिवार को धमकी देता है आज मीडिया है कल नही रहेगा । कल हम होगे । आप बयान बार बार बदल रहे हो । कल को हम बदल गए ।

क्या यही नया की व्यवस्था है जहा पुलिस को सुरक्षा देनी चाहिए वाहा धमका रही है । ऐसी पापी पुलिस तुम जैसे को यहा जीने का कोई अधिकार ही नही है ।

जब पुलिस की नौकरी ज्वाइन की थी तो किस बात का सपथ लिए थे ?की अन्याय का साथ देगे यही सपथ मे पढे थे । अरे पापी सुधार जाओ नही तो उपर वाला जो आदेश दे रहा है ना उससी तरह से भगवान भी आदेश देगा ।

Hatharas Rape Case Report .
भारत समाचार से पीड़ित परिवार छुप कर मीडिया से बात करता हुये

उत्तर प्रदेश मे रेप की घटना लगातार बढ़ता जा रहा है कोई लगाम नही है आखिर पुलीस कर क्या रही है डीएम एसपी ये सब किसी काम मे बीजी है ।

जब कल निर्भया की वकील सीमा स्मृधि कुशवाहा ने मिलने पीड़िता परिवार से मिलना चाहि तब भी पुलिस वालो ने नही मिलने दिया । आखिर क्यो ऐसा हो रहा ।

इतना नही सीमा जिसे एक एडीओ ने भी बात की और वो अपना नाम तक नही बता पाये और न ही उनके बाद Name प्लेट था । काफी सवाल जबाब के बाद किसी ने कहा गिर गया है ।

अरे दोगलो जब name plete लगाए होते तो इतना तो पता होता लगाया है ध्यान पर तो आता उसके बाद देखते है या नही लेकिन जब उनको यही नही पता था लगाया या नही तो गिर कैसे गया ।

जिस तरह से हाथरस  को घेरा गया है इसी तरह पुलिस खड़ा होती तो शायद ऐसी नौवत नही आती लेकिन ऐसा नही हुवा । इन सभी को देखते हुये

आखिर पुलिस इतना बेचैन क्यो है डीएम साहब धमकिया क्यो दे रहे है पीड़ित परिवार से मीडिया को क्यो नही मिलने दिया जा रहा है । वजह क्या है । क्या ये लोग को अपराधित है क्या ?

इनपुट भाषा  – विडियो

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!