UP Anti Corruption Helpline No घूसखोरों की अब खैर नही

UP Anti Corruption Helpline No घूसखोरों की अब खैर नही

UP Anti Corruption Helpline No: यूपी (Uttar Pradesh) में अब घूसखोर सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों की खैर नहीं। घूसखोर कर्मचारियों व अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए

सतर्कता अधिष्ठान (Vigilance Department) के प्रभारी निदेशक पीवी रामा शास्त्री (PV Ramashastri) ने कमर कस ली है। विजिलेंस विभाग ने कर्मचारी व अधिकारी के खिलाफ घूसखोरी की शिकायत दर्ज करने के लिए

एक हेल्पलाइन नंबर (Helpline Number) जारी किया है।  9454401866 इस नंबर पर फोन करके घूस मांगने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई जा सकती है

सतर्कता अधिष्ठान के प्रभारी निदेशक पीवी रामा शास्त्री ने बताया कि सोमवार से लेकर शुक्रवार तक सुबह 10:00 से शाम 6:00 तक इस हेल्पलाइन नंबर पर घूसखोरी की शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

शिकायत का तुरंत संज्ञान लिया जाएगा और जांच के बाद कार्रवाई भी की जाएगी. विजिलेंस विभाग के इस हेल्पलाइन नंबर को घूसखोरी के खिलाफ बड़ी शुरुआत माना जा रहा है।

CBI के द्वारा दिया गया है ट्रेनिंग

पीवी रामा शास्त्री ने बताया कि विजिलेंस विभाग के अधिकारियों की विवेचना और तमाम अन्य जरूरतों के लिए अभी हाल ही में 4 दिन की ट्रेनिंग गाजियाबाद सीबीआई अकैडमी के अधिकारियों से करवाई गई है।

UP Anti Corruption Helpline No
UP Anti Corruption Helpline No

कोविड-19 को देखते हुए यह ट्रेनिंग वर्चुअल क्लास के माध्यम से कराई गई थी. विजिलेंस के सभी 10 सेक्टर और मुख्यालय के 4 सेक्टर में तैनात अधिकारियों को गुणवत्ता परक विवेचना करने और समय के साथ बदल रहे अपराधों के विवेचना की ट्रेनिंग दिलवाई गई है।

विजिलेंस विभाग जल्द ही वेबसाइट भी शुरू करने की तैयारी में है और सेक्टर के 10 जिलों में विजिलेंस विभाग के थाने खोलने की भी तैयारी की जा रही है.

मौजूदा समय में वाराणसी, प्रयागराज, गोरखपुर, अयोध्या, लखनऊ, कानपुर, झांसी, आगरा, बरेली और मेरठ विजिलेंस सेक्टर के जिले हैं, जहां पर ये सुविधाएं उपलब्ध होगी.

Source: hindi.news18 

इसे भी पढे 

Remove China Apps Android & iOS लिस्ट देखे 

3 thoughts on “UP Anti Corruption Helpline No घूसखोरों की अब खैर नही

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!